हिरा कैसे बनता है? | असली हिरे को कैसे पहचानें? | Diamond Information In Hindi Language

हिरा कैसे बनता है? | असली हिरे को कैसे पहचानें? | Diamond Information In Hindi Language

Diamond Information In Hindi Language – दुनिया में तीन देश हैं जहां से हिरे प्राप्त होते हैं. पहला हिरा केवल भारत में पाया गया था। दक्षिण अमेरिका और अंत में दक्षिण अफ्रीका दूसरे स्थान पर आया, जो अब हिरे का सबसे बड़ा उत्पादक है. दुनिया का लगभग 95% हिरा उत्पादन भारत से ही होता है. भारत मै इसके मुख्य क्षेत्र, चेन्नई, मध्य प्रदेश, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल हैं. मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में भुजगवन क्षेत्र में सबसे ज्यादा हिरा उत्पादन होता है. भारत में सबसे अधिक 95 प्रतिशत हिरे का उत्पादन होता है।

हिरे के बारे मै ऐसी बहोत सी बाते आज आपको हम बतायेगे। जैसे की हिरा बनता कैसे है? हिरा किस चीज़ का बना होता है? कहां बनते हैं हिरे? हिरा इतना मजबूत क्यों होता है? कैसे पहचाने असली और नकली हीरे को? क्या हीरे बनाये भी जा सकते हैं? ऐसे सारे प्रश्नों के उत्तर आज आपको मिल जायेगे।

तो चलो देखते है,

हिरों के चार प्रमुख प्रकार हैं – विशिष्ट, बोर्ट, बुलस और कार्बोनेडो। इनमें से केवल कुछ किस्में ही उत्कृष्ट, क्रिस्टल से भरी, पारदर्शी और बहुत महंगी हैं, जिनका उपयोग गहने बनाने के लिए किया जाता है. बाकी सामग्री केवल उद्योग में उपयोग की जाती है, जहां काटने और छेदने के उपकरण नोजल के बजाय हीरे का उपयोग करके इसकी कठोरता का उपयोग करते हैं.

खानों से निकलने वाले हिरेको सीधे बाजार में ऊंचे दामों पर नहीं बेचा जाता है। अपनी उपस्थिति को बढ़ाने के लिए, इसे कुशल कारीगरों के हाथों से गुजरना पड़ता है, जिन्होंने इसे काट दिया और इसे दुनिया की सबसे मूल्यवान वस्तुओं में गिना। खानों से पत्थर में खनन किए गए हिरे चार मुख्य कार्य करते हैं क्लीवेज, कटिंग, पॉलिशिंग और सेटिंग।

आपने सुना होगा कि एक आदमी हिरे को चाटने के बाद मर जाता है, लेकिन यह एकदम झूट है। इसका वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं है.

हिरा कैसे बनता है? | हिरा किस चीज का बना होता है?| Hira Kese Banta Hai? |Diamond Information In Hindi Language

हिरा १००% कार्बन का बना होता है. हिरा एकदम शुद्ध होता हे जिसमे मिलावट थोड़ी भी नहीं होती है. रासायनिक रूप से हिरा कार्बन का बना होता हे. अगर हिरे को ७८६ डिग्री सेल्सियस पे अगर गरम किया जाये तो वो जलकर कार्बनडाई ऑक्साइड बना लेता हे और जलने के बाद राख तक नहीं छोड़ता. हिरा रासायनिक तौर पर बहुत निष्क्रिय होता है एव सभी घोलकों में अघुलनशील होता है. इसका आपेक्षिक घनत्व 3.51 होता है.

हिरे को कैसे मापते है? | Hire Ko Kisme Mapa Jata Hai?

हिरे को कैरेट में मापा जाता है और एक कैरेट का वजन 0.२० ग्राम या २०० मिलीग्राम होता है।

जगभर मै प्रसिद्ध हिरे कोनसे है? | Jagbhar Mai Prasiddha Hire konse he?

  1. कलिनन,
  2. कोहिनूर,
  3. अरलाफ,
  4. अकबर शाह,
  5. ग्रेट मुगल,
  6. रीजेंट, डडली,
  7. स्टार ऑफ द साउथ

आदि कुछ ऐसे हीरे नाम हैं, जिन्होंने दुनिया भर में ख्याति प्राप्त की है।

हिरा इतना मजबूत क्यों होता है? | Hira Etna Majboot Kese Hota Hai?

इस Diamond में सभी कार्बन परमाणु एक बहुत शक्तिशाली सहसंयोजक बंधन द्वारा जुड़े हुए हैं, इसलिए यह बहुत कठोर होता है। हीरा प्राकृतिक पदार्थ में सबसे कठोर पदार्थ है. इसमें मौजूद सभी चार इलेक्ट्रॉन सहसंयोजक बंधन में भाग लेते हैं और कोई भी इलेक्ट्रॉन स्वतंत्र नहीं है, इसलिए हीरा गर्मी और बिजली का संवाहक है।

कहां बनते हैं हिरे? | Kaha Bante He Hire?


वैज्ञानिकों के अनुसार; हीरे जमीन से लगभग 160 किमी दूर बनते हैं। १६० किमी की दूरी पर बहुत गर्म वातावरण में बनते हिरे बनते है. ज्वालामुखी गतिविधि फिर उन्हें आगे लाती है। ग्रहों या पिंडों के टकराने के कारण भी हीरे पाए जाते हैं. हीरे अथाह गहराई में बहुत ज्यादा दबाव और तापमान के बीच कार्बन अणु बहुत ही अनोखे तरीके से जुड़ते हैं और हीरे जैसे दुर्लभ पत्थरों में बदल जाते हैं।

असली और नकली हिरे को कैसे पहचाने? | Asli Hire Ko Kese Pehechane?

बेहद गहराई से निकलने वाले हीरे रासायनिक रूप से शुद्ध होते हैं और ये अद्भुत रूप से पारदर्शी होते हैं. प्राकृतिक हिरे और कारखाने से बने हिरे के बीच अंतर बताना बहुत मुश्किल है, लेकिन ये पेहचाना जा सकता है, आगे देखिये कैसे?

  • असली हिरे के अंदर एक खुरदरापन होता है लेकिन सिंथेटिक मतलब बनाया हुआ हिरा सभी तरफ से एकजैसा और सामान्य दिखता है। असली हिरे में बारीकी से देखा खांचे होते हैं, जिन्हें बारह सौ गुना परिमाण की माइक्रो स्कोप की सहायता से देखा जा सकता है।
  • आप अखबार पर एक हिरा रखिये और उसमें से अक्षरों को पढ़ने की कोशिश कीजिये। यदि आप घुमावदार रेखाएँ देखते हैं, तो इसका मतलब है कि आपका हीरा नकली है।
  • एक असली हीरा पानी में डूब जाता है, जबकि एक नकली हीरा पानी पर तैरता है।

हिरा खरीदते वक्त इन जरूरी बातों का रखें ध्यान | Hira Kharidte Samay Kin Chizo Ka Dhyan Rakhna Chahiye?

अगर आप हिरा खरीदने पर विचार कर रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। यहां तक ​​कि जल्दबाजी में खरीदारी का मतलब यह भी नहीं होना चाहिए कि बड़ी रकम भी निकल जाए और आप ठगा हुआ महसूस करें। फिर असली हीरे की पहचान कैसे की जाए?

4C सिद्धांत
हिरा खरीदते समय 4 बातों का ध्यान रखना चाहिए। कट, कलर, क्लैरिटी और कैरट वेट। उन्हें सामूहिक रूप से 4C कहा जाता है।

  • कट – कट 3 प्रकार के होते हैं. प्रपोर्शनल, शैलो और डीप। प्रपोर्शनल कट वाले हिरे सबसे महंगे होते हैं। हीरे कई आकार में आते हैं. इनमें से कुछ प्रसिद्ध आकृतियाँ हैं – राउंड ब्रिलियंट, मार्कीज, प्रिंसेस, पीयर, हार्ट और ओवल। राउंड ब्रिलियंट आकार वाले हिरे अच्छी वरायटी के माने जाते हैं.
  • कलर उनके पास ज्यादा रंग नहीं है. यह रंगहीन, लगभग रंगहीन, पीले और हल्के पीले रंग का होता है. एक अच्छा हिरा वह है जिसमें हल्का रंग होता है. इस मायने में, सबसे अच्छा हीरा पूरी तरह से बेरंग है। हिरे के रंग के लिए अलग-अलग ग्रेड दिए गए हैं. ये ग्रेड ‘डी’ से ‘वी’ के बीच होते है. सर्वश्रेष्ठ ग्रेड को ‘डी’ माना जाता है, जो आमतौर पर एक रंगहीन हिरा होता है.
  • क्लैरिटी – हिरा जितना क्लियर मतलब साफ होगा, वह उतना ही अच्छा और महंगा होगा।लेकिन ऐसे हिरे दुर्लभ हैं। सबसे बेहतर क्लैरिटी वाले हिरे को इंटरनली फ्लॉलेस (आईएफ) ग्रेड दिया जाता है. इसके कम क्लैरिटी वाले हिरे को क्रमश: वीवीएस1, वीवीएस2, वीएस1, वीएस2, एसआई1, एसआई2, एसआई1, एसआई2 और एसआई3 ग्रेड दिए जाते हैं।
  • कैरट वेट कैरेट वेट मतलब हीरे का वजन ऐसा है. ५ कैरेट मे १ ग्राम बनाया जाता है। १ कैरेट को १०० पॉइंट्स में विभाजित किया जाता है। इस संबंध में, कोई अंतर्राष्ट्रीय जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट जैसे संस्थानों द्वारा दी गई दुकानदार की छवि और प्रमाण पत्र पर भरोसा कर सकता है।

गारंटी कार्ड
उसके आभूषण खरीदने के बाद, खरीदार के साथ दुकानदार से गारंटी मांगी जानी चाहिए। कुछ प्रतिष्ठित ज्वैलर्स अपनी ओर से वारंटी कार्ड देते हैं। इस कार्ड में 4 सी का विवरण होता है। इसके आधार पर, ग्राहक इसके हर पहलू का अंदाजा लगा सकता है।

यावर हि एक नजर टाका,

  1. Term Insurance Meaning In Marathi | टर्म इन्शुरन्स म्हणजे काय?
  2. Best LIC Policy Plans In Marathi | LIC New Plan Marathi | LIC Policy Plan Details In Marathi
  3. (योजना क्र.९४५) जीवन उमंग योजना | LIC Jeevan Umang Plan In Marathi
  4. (सुरक्षित गुंतवणूक)Mutual Fund Investment Information In Marathi | Mutual Funds In Marathi | Mutual Fund Information In Marathi

Vaibhav Gurav

नमस्कार मित्रांनो, मी वैभव संजय गुरव. मी नाशिक शहरात राहतो. मी स्थापत्य अभियांत्रिकी मध्ये डिग्री प्राप्त केलेली आहे. शिक्षण घेत असतांनाच मला Business ideas, डिजिटल मार्केटिंग, आरोग्य, बँकिंग, finance, शेअर मार्केट या विषयांबद्दल वाचण्यात आणि अभ्यास करण्यात चांगली रुची होती. आपल्या देशात lockdown लागला तेव्हा बऱ्याच लोकांचे रोजगार गेले आणि बेरोजगारी वाढली, याच गोष्टीचा विचार करून मी माझे वरील विषयांबद्दल चे माझे ज्ञान लोकांना शेअर करायचे ठरवले, आणि हा ब्लॉग सुरु केला. आता ब्लॉग लिहिणे, माहिती पुरवून लोकांना मदत करणे, आणि त्यांचा चांगला प्रतिसाद मिळवणे हे माझे passion बनले आहे. धन्यवाद !!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close