कारगिल विजय दिवस निबंध | kargil vijay diwas Essay & Speech in Hindi

कारगिल विजय दिवस निबंध | kargil vijay diwas Essay & Speech in Hindi

दोस्तों इस पोस्ट में हमने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर निबंध शेयर किया हे, और आशा करते हे की आपको ये जरूर पसंद आएगा.

कारगिल विजय दिवस निबंध | kargil vijay diwas essay in hindi

कारगिल विजय दिवस स्वतंत्र भारत के सभी देशवासियों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिवस माना जाता हे है।

भारत में प्रत्येक वर्ष 26 जुलाई को यह दिवस कारगिल विजय दिवस के नाम से मनाया जाता है। इस दिन भारत और पाकिस्तान की सेनाओं के बीच वर्ष 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था जो लगभग 60 दिनों तक चला और 26 जुलाई के दिन उसका अंत हुआ और इसमें भारत विजय हुआ।

कारगिल विजय दिवस युद्ध में शहीद हुए भारतीय जवानों के सम्मान हेतु 26 जुलाई को यह दिवस कारगिल विजय दिवस के नाम से मनाया जाता है

कारगिल विजय दिवस को ऑपरेशन विजय के नाम से भी जाना जाता है। कारगिल युद्ध जम्मू-कश्मीर के कारगिल जिले में नियंत्रण रेखा पर हुआ, जिसे LOC ( Line of Control ) कहते हैं।

कारगिल वॉर क्यों हुआ था ?

आपको पता ही होगा की 1971 के भारत-पाक में युद्ध हुआ था जो भारत ने जीता था , लेकिन उसके बाद भी भी कई दिन सैन्य सेना में संघर्ष होता रहा।

इतिहास के मुताबित भारत और पाकिस्तान इन दोनों देशों द्वारा परमाणु परीक्षण के कारण तनाव और बढ़ ज्यादा गया था। स्थिति को शांत करने के लिए दोनों देशों ने फरवरी 1999 में लाहौर में घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किए। जिसमें कश्मीर मुद्दे को द्विपक्षीय वार्ता द्वारा शांतिपूर्ण ढंग से हल करने का वादा किया गया था। ले

किन पाकिस्तान ने अपने सैनिकों और सैनिक बलों को छिपाकर नियंत्रण रेखा के पार भेजने लगा और इस घुसपैठ का नाम “ऑपरेशन बद्र” रखा था।

इसका मुख्य उद्देश्य कश्मीर और लद्दाख के बीच की कड़ी को तोड़ना और भारतीय सेना को सियाचिन ग्लेशियर से हटाना था। पाकिस्तान यह भी मानता है कि इस क्षेत्र में किसी भी प्रकार के तनाव से कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाने में मदद मिलेगी।

प्रारम्भ में इसे घुसपैठ मान लिया था और दावा किया गया कि इन्हें कुछ ही दिनों में बाहर कर दिया जाएगा।

Kargil Vijay Diwas Essay in Hindi ( 250-500 Words ) | कारगिल युद्ध पर निबंध

26 जुलाई 1999 को भारत ने पाकिस्तान को हराकर कारगिल युद्ध जीता। अब इस युद्ध को २२ साल हो गए हैं। तब से 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। भारतीय सेना ने बहुत कठिन परिस्थिति का सामना किया और कारगिल युद्ध जीत लिया।

कारगिल युद्धक्षेत्र दुनिया के सबसे ऊंचे और सबसे खतरनाक युद्धक्षेत्रों में से एक है। लड़ाई श्रीनगर से 205 किलोमीटर दूर कारगिल के टाइगर हिल इलाके में लड़ी गई थी। यहां रात बहुत लंबी होती है और तापमान -48 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। और पाकिस्तान कश्मीर से इस क्षेत्र पर कब्जा करना चाहता था।

1998-99 की सर्दियों के दौरान, पाकिस्तानी सेना ने गुप्त रूप से सियाचिन ग्लेशियर पर दावा करने और आसपास के क्षेत्र पर नियंत्रण हासिल करने के इरादे से कारगिल के पास सैनिकों को भेजना शुरू किया। उस समय पाकिस्तान ने पाकिस्तानी सैनिक नहीं मुजाहिदीन होने का दावा किया था।

पाकिस्तान चाहता था कि इस मुद्दे पर पूरी दुनिया का ध्यान जाए ताकि भारतीय सैनिकों पर सियाचिन से हटने का दबाव बनाया जा सके। और भारत को कश्मीर मुद्दे पर बातचीत के लिए मजबूर किया जा सकता है। बाद में पता चला कि इसमें कश्मीरी आतंकवादी भी शामिल थे। कारगिल युद्ध का मैदान समुद्र तल से इतना ऊंचा था कि भारत के लिए वहां सैनिकों और हथियारों को ले जाना बहुत मुश्किल था।

पाकिस्तानी सैनिकों ने शुरू में नियंत्रण रेखा (एलओसी) का उल्लंघन कर भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया। स्थानीय चरवाहों ने तब भारतीय सेना को सूचित किया कि कुछ संदिग्ध व्यक्ति सीमा का उल्लंघन कर रहे हैं।

इसकी पुष्टि के लिए भारतीय सेना ने लद्दाख से सैनिकों की एक टुकड़ी कारगिल इलाके में भेजी। इससे पता चला कि पाकिस्तानी सेना ने सीमा का उल्लंघन कर भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की थी।

दोनों सेनाओं ने एक दूसरे पर फायरिंग शुरू कर दी। भारतीय वायु सेना ने घुसपैठ करने वाली पाकिस्तानी सेना को खदेड़ने के लिए हवाई हमले शुरू किए।

भारत की बढ़ती आक्रामकता और तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के दबाव के कारण पाकिस्तान को आत्मसमर्पण करना पड़ा और एलओसी क्षेत्र से अपनी सेना वापस बुलानी पड़ी।

भारत ने उस क्षेत्र को पुनः प्राप्त कर लिया जिसे पाकिस्तान जीतने की कोशिश कर रहा था। युद्ध 26 जुलाई, 1999 को समाप्त हुआ, जब पाकिस्तानी सेना ने घोषणा की कि उसने एलओसी क्षेत्र से अपने सैनिकों को वापस ले लिया है।

ऑपरेशन को ऑपरेशन विजय करार दिया गया था। कैप्टन विक्रम बत्रा ने मेजर जनरल इयान कार्डोजो के नेतृत्व में भारतीय सेना का नेतृत्व किया और 26 जुलाई 1999 को भारतीय क्षेत्र पर विजय प्राप्त की।

हथियार प्रतिबंध के उल्लंघन के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की आलोचना की गई है। संधि का सम्मान करने और युद्ध को सफलतापूर्वक जीतने के लिए सभी देशों द्वारा भारत का स्वागत किया गया। इसलिए 26 जुलाई को पूरे देश में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

भारतीय सेना किसी भी प्राकृतिक आपदा या आतंकवाद की स्थिति में सेवा करने के लिए हमेशा तैयार है। कारगिल की जीत ऐसी ही एक है। ऐसी बहादुर भारतीय सेना का आभार व्यक्त करने के लिए नहीं। और निश्चित रूप से देश के लिए उनकी सेवा को कभी नहीं भुलाया जा सकेगा।

कारगिल युद्ध में सैनिकों की बहादुरी को सलाम करने और कारगिल युद्ध में जीत का जश्न मनाने के लिए कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है। हर साल कारगिल विजय दिवस पर,

भारतीय प्रधान मंत्री अमर जवान ज्योति के पास शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैं। हर तरफ देशभक्ति का माहौल है। विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम, मॉर्निंग वॉक का आयोजन किया जाता है। इस दिन भारतीय सेना को सभी लोग बधाई देते हैं।

स्कूलों, कॉलेजों, सरकारी कार्यालयों में तिरंगा फहराया जाता है और विभिन्न देशभक्ति कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। स्कूलों में निबंध लेखन प्रतियोगिताएं, वक्तृत्व प्रतियोगिताएं, नाटक आदि आयोजित किए जाते हैं।

इसलिए हमने इस कारगिल विजय दिवस के बारे में हिंदी निबंध, जानकारी भाषण दिए हैं। यह जानकारी, निबंध, भाषण, लेख आपको घरेलू प्रतियोगिताओं के साथ-साथ गृहकार्य में निबंध, भाषण लिखने में मदद करेगा।

कारगिल विजय दिवस essay in hindi

Also Read :

Team 360Marathi.in

Mayur Patil

नमस्कार मित्रांनो, मी मयूर पाटील. लहानपणापासूनच मला CODING, वेब डेव्हलपमेंट, टेकनॉलॉजी अशा काही विषयांची ओढ होतीच, परंतु जसे कि माझे शिक्षण चालू आहे आणि देशात सध्याची परिस्थिती पाहून शिक्षणाबद्दल, महान लोकांच्या biography, सरकारी योजना, पुस्तके, शेअर मार्केट या विषयांबद्दल वाचण्यात आणि अभ्यास करण्यात मला चांगली आवड निर्माण झाली. म्हणून मी ठरवले कि या ब्लॉग च्या माध्यमातून आपण जास्तीत जास्त लोकांपर्यंत पोहोचून त्यांना या सगळ्या विषयांबद्दल उत्तम मार्गदर्शन करू शकतो. मला आता वेग वेगळ्या विषयांचा अभ्यास करून ब्लॉग लिहिण्यात, माझ्या readers च्या समस्या जाणून घेऊन त्या सोडवण्यात जास्त आनंद मिळतो. धन्यवाद !!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close